back
user
कुछ नहीं होता है ऐसे, ,,,,,,, जीवन यथार्थ का नाम है, ,,,,, कलयुग में संभव नहीं, ,,,,,, होगा वहीं जो प्रभु कृपा से, ,, जयगुरूदेव
0/400