back
user
माँ एक माँ है गरीब होकर बचो को नहीं छोड़ती एक रोटी की लिए भी मज़बूर होकर मज़दूरिया करती है माँ का प्रेम आसमान से भी बड़ा है दरिया से भी बड़ा दुनिया से भी बड़ा आज तक कौन समजा उनके सौभग्य माँ का प्रेम मिला अटूट मातृत्व प्रेम जो पवित्र माता का प्रेम इसे संसार में कोई नहीं मोल माँ का प्रेम है अनमोल जीवन से मुत्यु तक रोम रोम से जुड़ा माँ प्रेम जय हो माता जगत जननी जगदम्बा माता की इसे धरती की माँ नमन
0/400