back
user
#पानी को आप कितना भी #गर्म कर ले पर वह थोड़ी ही देर बाद अपने #मूल_स्वभाव में आकर #शीतल हो ही जाता है इसी प्रकार हम कितने भी #क्रोध में, #भय में, #अशांति में रह ले लेकिन थोड़ी ही देर बाद हमें अपने #बोध में, #निर्भयता में और #प्रसन्नता में हम सभी को स्वाभाविक ही आना पड़ेगा क्योंकि यही हमारा #मूल_स्वभाव है। इसलिए . सदैव खुश रहे प्रसन्न रहे.. #motivation#success#life
user
Replying to @yadavshekar
0/400